करें ये आसान उपाय, पूरी होगी हर मनोकामना

भगवान शिव
कष्टों से चाहिए मुक्ति तो इस तरह करें शिव की उपासना
August 8, 2017
धन और सुख-शांति
घर में रखें ये 6 चीजें, अच्छी आय से लेकर सच्चे प्यार तक मिलेगा सब कुछ
August 10, 2017
इन उपायों के बारे में और अधिक जानकारी के लिए हिमानी अज्ञानी संपर्क करें – +91 9636243039.

भाद्रपद मास के तीसरे दिन यानी भाद्रपद कृष्ण तृतीया तिथि विशेष फलदायी होती है, क्योंकि यह तिथि माता पार्वती को समर्पित है।

भाद्रपद मास के तीसरे दिन यानी भाद्रपद कृष्ण तृतीया तिथि (इस बार 10 अगस्त, गुरुवार) विशेष फलदायी होती है, क्योंकि यह तिथि माता पार्वती को समर्पित है। इस दिन भगवान शंकर तथा माता पार्वती के मंदिर में जाकर उन्हें भोग लगाने तथा विधि-विधान पूर्वक पूजा करने से सभी सुखों की प्राप्ति होती है। इस दिन कजरी तीज का उत्सव भी मनाया जाता है। कजरी तीज को सतवा तीज भी कहते हैं। इस दिन भगवान श्रीकृष्ण को फूल-पत्तों से सजे झूले में झुलाया जाता है। चारों तरफ लोक गीतों की गूंज सुनाई देती है।

कई जगह झूले बांधे जाते हैं और मेले लगाए जाते हैं। नवविवाहिताएं जब विवाह के बाद पहली बार पिता के घर आती है तो तीन बातों के तजने (त्यागने) का प्रण लेती है- पति से छल कपट, झूठ और दुर्व्यवहार और दूसरे की निंदा। मान्यता है कि विरहा अग्नि में तप कर गौरी इसी दिन शिव से मिली थी। इस दिन पार्वती की सवारी निकालने की भी परम्परा है। व्रत में 16 सूत का धागा बना कर उसमें 16 गांठ लगा कर उसके बीच मिट्टी से गौरी की प्रतिमा बना कर स्थापित की जाती है तथा विधि-विधान से पूजा की जाती है।

इन उपायों के बारे में और अधिक जानकारी के लिए हिमानी अज्ञानी संपर्क करें – +91 9636243039.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *