भूत-प्रेत-पिशाच, चुड़ैल आदि बाधाओं से मुक्ति पाने के लिए अचूक मंत्र प्रयोग

मां बगलामुखी
भगवान कृष्ण तथा अर्जुन ने विजय की प्राप्ति हेतु इस प्रकार की थी मां बगलामुखी की आराधना
July 21, 2017
लक्ष्मीजी का करें पूजन
इस हरियाली अमावस्या पर करें ये पूजा और उपाय, हर संकट होगा दूर
July 23, 2017
tantra solution

अक्सर हमें जीवन में कुछ ऐसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है जिनका कोई समाधान नहीं होता। भूत-प्रेत-पिशाच आदि बाधाएं भी ऐसी ही हैं। एक बार अगर ये किसी के पीछे लग जाएं तो फिर उसे मृत्यु के बाद भी छुटकारा नहीं मिलता। ऐसी ही समस्याओं के निवारण हेतु कुछ साबर मंत्र बताए गए हैं। इनके प्रयोग से तुरंत लाभ मिलता है। आज हम ऐसे ही कुछ मंत्रों के बारे में जानेंगे।

शरीर रक्षा के लिए मंत्र

इस मंत्र का प्रयोग करने से व्यक्ति को किसी भी प्रकार की भूत-प्रेत-पिशाच अथवा चुड़ैल जैसी बाधाएं परेशान नहीं कर पाती है। इस मंत्र को आम तौर पर कोई भी बड़ी साधना आरंभ करने से पहले पढा जाता है ताकि साधना के दौरान सभी समस्याओं से बचाव हो सकें। मंत्र निम्न प्रकार है-

ऊँ नमः वज्र का कोठा
जिसमें पिंड हमारा पैठा
ईश्वर कुंजी ब्रह्मा का ताला,
मेरे आठों याम का
यतो हनुमंत रखवाला।

इस मंत्र को शुभ मुहूर्त में 1000 बार जप तथा हवन आदि द्वारा सिद्ध कर लेना चाहिए। इसके बाद जिस पर भी इसे प्रयोग करना हो, उसके इस मंत्र को 3 बार पढ़कर फूंक दे देने से वह भी बाधामुक्त हो जाता है।

शरीर रक्षा के लिए एक अन्य मंत्र का भी प्रयोग बताया गया है। इसे भी शुभ मुहूर्त में 1000 बार जप कर हवन द्वारा सिद्ध कर लेना चाहिए। इसके बाद जिसे भी इस मंत्र को पढ़कर फूंक देंगे, उसकी प्रेत-बाधा स्वतः ही दूर हो जाएगी। मंत्र निम्न प्रकार है –

ऊँ नमो परमात्मने परब्रह्म मम शरीरे पाहि पाहि कुरु-कुरु स्वाहा।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *