12 वर्ष बाद बना गुरु पूर्णिमा पर अद्भुत संयोग, दान-पुण्य व गुरु की पूजा से होगा विशेष लाभ

एकमुखी रुद्राक्ष
इन कार्यों में सफलता दिलाता है एकमुखी रुद्राक्ष
July 6, 2017
सावन में महागजकेसरी योग
17 वर्ष में पहली बार बन रहा है सावन में महागजकेसरी योग, इस पूजा से होगी हर इच्छा पूरी
July 8, 2017
ऐसे करें गुरु की पूजा

इस बार गुरु पूर्णिमा पर अद्भुत शुभ संयोग बन रहा है। इस बार गुरु पूर्णिमा अर्थात 9 जुलाई को देवगुरु बृहस्पति का बुध की राशि कन्या में गोचर होगा जबकि गुरु पूर्णिमा पूर्वाषाढ़ नक्षत्र में मनाई जाएगी। ज्योतिषियों के अनुसार 12 वर्ष बाद इस तरह का संयोग बन रहा है जबकि गुरु, बुध की राशि में रहेंगे। इस दौरान किया गया हर शुभ कार्य अवश्य ही फलीभूत होगा। इस दिन किए गए दान-पुण्य का भी हजार गुणा फल मिलेगा।

इसलिए मनाई जाती है गुरु पूर्णिमा

प्राचीन पुराणों के अनुसार महर्षि वेद व्यास को आदि गुरु माना जाता है। उन्होंने महाभारत के अलावा वेद तथा पुराणों की भी रचना की थी, इसी से उन्हें संपूर्ण विश्व का गुरु माना जाता है। आषाढ़ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को महर्षि वेदव्यास का जन्म हुआ था। अतः गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा भी कहा जाता है।

Guru-Punima

ऐसे करें गुरु की पूजा

शास्त्रानुसार गुरु पूर्णिमा पर अपने गुरु की पूजा की जाती है। जिन लोगों के गुरु स्वर्गारोहण कर चुके हैं, वे अपने गुरु की प्रतिमा अथवा चित्र की पूजा करते हैं। जिन लोगों ने अभी तक गुरु नहीं बनाएं, वो इस दिन अपने ईष्टदेव अथवा माता-पिता की पूजा कर सकते हैं।

पूजा के लिए सुबह स्नान-ध्यान आदि से निवृत्त होकर साफ धुले कपड़े पहन कर गुरु के घर जाएं। वहां उनके चरण धोएं, उनका चंदन आदि का तिलक लगाएं, उन्हें पुष्पमाला पहनाएं, आरती करें तथा उन्हें मिठाई व अपनी सामर्थ्यनुसार भेंट अर्पित करें। इसके बाद उनके चरणों में शीश झुकाकर उनका आशीर्वाद लें। अपने ईष्टदेव की भी इसी प्रकार पूजा करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Feedback
error: Content is protected !!